सरकार के टारगेट पर एक और आई.ए.एस.

0
81

एक तरफ जहां सरकारें चलाने में सिस्टम को ऑफिसर्स मेंटेन करते हैं, वहीं सरकारें और शीर्ष ऑफिसर्स निजी स्वार्थों के पीछे इमानदार अधिकारियों को टार्गेट बनाने से नहीं चूकते। मुन्नार विवाद के बाद केरल सरकार ने एक और आई.ए.एस. अधिकारी को टार्गेट बना कर नया विवाद छेड़ दिया है। इस बार अपने ही सिस्टम के निशाने पर युवा आई.ए.एस अदीला अब्दुल्ला आ गई हैं।

केरल काडर की इस युवा आई.ए.एस. अधिकारी ने फोर्ट कोच्ची की सब कलक्टर रहते हुए शहर में हो रहे करीब 60 करोड़ के अवैध निर्माण को रुकवाने की हिमाकत क्या कर डाली, सारा सिस्टम ही इनके पीछे पड़ गया है। अदीला ने साढ़े सात एकड़ की विवादित भूमि पर फ्लैट के निर्माण की फाइल भी रोकी थी। इतना होना था कि सरकार ने अदीला को तुरंत ट्रांसफर करते हुए लाइफ मिशन प्रोग्राम की जिम्मेदारी सौंप दी है। गौरतलब है कि केरल में युवा अधिकारियों में अपने वरिष्ठजनों को लेकर खासा रोष है। सरकार की मनमानी से चलती शीर्ष ब्यूरोक्रेसी इमानदार अधिकारियों के लिए लम्बे समय से समस्या बनी हुई है।