जापान में लीगल हुआ बिटकॉइन, अब भारत की तैयारी

Filed under: Money |

जयपुर। वित्त वर्ष शुरुआत का पहला दिन दुनिया के हाईटेक निवेशकों के लिए रोमांचक खबर लेकर आया। एक अप्रेल को जापान ने बिटकॉइन को आधिकारिक रूप से मान्यता देते हुए इसे वैध करार दे दिया। अब जापान में बिटकॉइन के जरिए खरीदारी संभव होगी। सेवाओं और वस्तुओं की खरीदफरोख्त में इसका इस्तेमाल वैध होगा।

डिजिटल करेंसी के रूप में मान्यता प्राप्त करने वाले बिटकॉइन की शुरुआत 2009 में हुई। तक इसकी भारतीय रुपए में कीमत केवल 6 रुपए थी, जो अब 73000 रुपए है। बिटकॉइन 2009 में ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर के रूप में उपलब्ध हुई, लेकिन इसे बनाने वाले प्रोग्रामर सतोशी नाकामोतो को अब तक तलाशा नहीं जा सकता है। कई लोगों ने दुनियाभर में सतोशी नाकामोतो होने के दावे भी किए, लेकिन सतोशी कौन है यह आज भी रहस्य बना हुआ है।

चर्चा में आने की वजह
मार्च 2017 में बिटकॉइन ने सोने को पछाड़ दिया। दो मार्च को अंतरराष्ट्रीय बाजार में एक बिटकॉइन की कीमत 1268 डॉलर हो गई, जबकि एक औंस सोने (28.35 ग्राम) सोने की कीमत इस दिन 1233 डॉलर ही थी। ऐसा पहली बार हुआ जब सोने को किसी ने पीछे छोड़ा हो। इस घटना के बाद अचानक बिटकॉइन सबकी नजरों में आ गया। हालांकि भारत में बिटकॉइन की टे्रडिंग 2013 के आस-पास शुरू हो चुकी थी, लेकिन तकनीकी जानकार या अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वर्चुअल करेंसी के जानकार ही इसमें रुचि लेकर पैसा बना रहे थे।

दुनिया की बड़ी कंपनिया करती हैं इस्तेमाल
माइक्रोसॉफ्ट, पेपल, डेल, न्यूएग, एक्सपीडिया, डिश नेटवर्क सहित दुनियाभर की कई बड़ी कंपनियां बिटकॉइन के जरिए लेनदेन कर रही है। 2013 में कनाडा के वैंकूवर में बिटकॉइन का एटीएम भी लगाया गया। भारत में मशूहर हुए जेबपे के जरिए बिटकॉइन से मोबाइल का बिल जमा करवाने, डिश, ब्रॉडबैंड, डाटा कार्ड रीजार्च करने के साथ बिजली का बिल भरने और लैंडलाइन फोन का बिल जमा कराने जैसी सुविधाएं भी इस्तेमाल की जा रही हैं। भारत में बिटकॉइन सबसे ज्यादा ब्लॉकचेन, जेबपे और यूनोकॉइन के जरिए इस्तेमाल में आ रहा है।

भारत में डीएबीएफआई से उम्मीदें

भारत में बिटकॉइन को लीगल करने के लिए सरकार को प्रीटिशन फाइल की जा चुकी है। यह डिजिटल एसेट्स एण्ड ब्लॉकचेन फाउंडेशन ऑफ इंडिया की ओर से भारत सरकार को की गई है। इस ऑनलाइन प्रीटिशन को वित्त मंत्री अरुण जेटली, रिजर्व बैंक गवर्नर उर्जित पटेल और वित्त मंत्रालय के एस.सेल्वाकुमार को भेजा गया है, जिसमें बिटकॉइन को भारत में लीगल करने की बात कही गई है।

इधर रिजर्व बैंक की ओर से बिटकॉइन की ट्रेड को लेकर सावधान रहने को लेकर 2013 और मार्च 2017 में सर्कुलर जारी किए गए हैं। लेकिन भारत में बिटकॉइन के सबसे बड़े एक्सचेंज के सीईओ संदीप गोयनका के अनुसार देश में जो कानून हैं, उनके अनुसार बिटकॉइन किसी भी तरह से गैरकानूनी नहीं है। बिटकॉइन की खरीद-फरोख्त में बैंकिंग और केवाईसी नियमों की पालना की जा रही है।

अब आगे क्या ?
भारत सरकार ने बिटकॉइन और ऐसी ही वर्चुअल करेंसी को रेगुलेट करने की तैयारियों के मद्देनजर अंतर मंत्रालय कमिटी का गठन किया है। यह कमिटी वर्चुअल करेंसी रेगुलेशन के ढांचे पर सुझाव देगी और ग्राहक हितों की रक्षा पर भी अपने सुझाव देगी। कमिटी वर्चुअल करेंसी पर कर लगाने का सुझाव देगी और मनी लॉन्ड्रिंग से बचने के उपायों के बारे में सुझाव देते हुए बिटकॉइन ऑर अन्य वर्चुअल करेंसी के कारोबार की समीक्षा करेगी।

One Response to जापान में लीगल हुआ बिटकॉइन, अब भारत की तैयारी

  1. Nice

    himanshu soni
    04/03/2017 at 3:37 PM
    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *