सरकार की ‘नाक’ के नीचे ‘सरकारी अभियान फेल!’ कलक्टर कैसे होंगे मोटीवेट?

0
508

जयपुर। सरकार की नाक के नीचे ही सरकारी योजना फेल हो रही है। राजस्थान सरकार स्वच्छता अभियान के प्रमोशन में मोटा पैसा खर्च कर रही है। नेता फोटो पर फोटा खिंचवा कर पब्लिसिटी स्टंट कर रहे हैं और जिला कलक्टरों को स्वच्छता के लिए सम्मानित करने के लिए प्रोत्साहन के साथ सम्मान देने की तैयारियां हैं। लेकिन सरकार की नाक (विधानसभा) के पीछे के हालात ही बदतर हैं। यहां कचरे के ढेर लगे हैं और नेता व अफसर शहर साफ करने, कराने की बात कर रहे हैं।

इन तस्वीरों को देखने के बाद साफ जाहिर है कि सरकार का स्वच्छता अभियान केवल फोटो सेशन और पब्लिसिटी स्टंट बनकर ही सीमित रह गया है। न हालात सुधरे हैं न इन्हें सुधारने की महत्त्वाकांक्षा सरकारी मशीनरी दिखा रही है। जयपुर को नंबर 1 बनाने के अभियान की पोल खोलती इन तस्वीरों को आप भी देंखेंगे, तो सरकार के खोखले अभियान की पोल आपके सामने भी खुल जाएगी। गौरतलब है कि राजस्थान सरकार के तरफ से स्वच्छ सर्वेक्षण 2018 अभियान चलाया जा रहा है। जयपुर में जगह-जगह बोर्ड और बैनर लगाए गए हैं जिनमें लिखा गया है, ‘जयपुर को स्वच्छता में बनाना है नंबर 1, जयपुर को स्वच्छ बनाने में अपना सहयोग करें।’ लेकिन यह वीडियो सरकार के खोखले दावों को जस्टिफाई करने के लिए पर्याप्त है…