न्याय के लिए IAS की लड़ाई को पब्लिक का भारी समर्थन, स्कूल प्रबंधन की भूमिका संदिग्ध

0
1500

जयपुर। राजस्थान काडर के आई.ए.एस. सल्वेन्द्र सिंह सोहता ने अपने भांजे की आत्महत्या के बाद बंसल ग्रुप की पोल खोलना शुरू कर दिया है। सोहता के ताजा बयान में स्कूल (जे.वी.पी. इंटरनेशनल बंसल स्कूल) प्रबंधन की लापरवाहियां उजागर हो रही हैं। उनके आरोपों के अनुसार प्रबंधन आदित्य को पुलिस से पाबंद करवाने की बात कह रहा है, जो कानूनन संभव नहीं है, क्योंकि आदित्य नाबालिग था। 18 वर्ष से कम उम्र होने की स्थिति में बच्चे को थाने ले जाने के बयान, उसे पाबंद करवाने की बात और उसे परेशान करने के मामले जानकारी में होने के बावजूद स्कूल प्रबंधन ने लापरवाही बरती। जिसका खामियाजा आदित्य को अपनी जान देकर चुकाना पड़ा है और पीछे से अब परिवार भुगत रहा है।

आई.ए.एस. सोहता ने इस संबंध में प्रताप नगर थाने में आर.टी.आई. भी लगाई है, जिससे स्कूल प्रबंधन द्वारा पेश की जा रही पुलिस की संदिग्ध भूमिका रिकॉर्ड में ली जा सके। सोहता के मुताबिक प्रबंधन पुलिस का नाम लेकर अपना बचाव करना चाह रहा है। इस पूरे मामले में सोहता को कई जिलों से अभिभावकों का सीधा समर्थन मिल रहा है। अभिभावकों ने स्कूल में बार-बार हो रहे आत्महत्या के मामलों के बाद सोशल मीडिया पर ऐसे स्कूलों को कत्लखाने की संज्ञा देते हुए, सीबीएसई से बंद करवाने तक की बातें कही हैं। आरोपों के साथ न्याय की उम्मीद में आर-पार की लड़ाई के साथ मैदान में उतर चुके सोहता ने ऑफिसर्स टाइम्स के सामने खोले कुछ और राज…